क्यों लिखा रहता हैं हर एक भारतीय रेलवे स्टेशन बोर्ड पे समुन्द्र तल से ऊंचाई

0
NDLS sea level railway
NDLS

जाने क्यों लिखा रहता हर एक भारतीय रेलवे स्टेशन बोर्ड पे समुन्द्र तल से ऊंचाई.

भारतीय रेलवे पुरे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेलवे नेटवर्क हैं, इसका रूट 69182 किलोमीटर तक फैला हुआ हैं. भारतीय रेल नेटवर्क को और बड़ा करने के लिए रात दिन काम चल रहा है. एक दिन ऐसा आएगा की भारतीय रेलवे दुनिया का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क बन जायेगा. अभी तो भारतीय रेलवे की हालत कुछ खास नहीं हैं. जैसे की हम बात करे सेफ्टी की तो आपको इसका स्टैण्डर्ड बहुत ख़राब मिलेगा आये दिन रेल दुर्घटनाये होते रहते हैं. अगर आप रिजर्वशन की बात करे तो पूछिए ही मत बहुत ही गन्दा रिजर्वशन सिस्टम हैं इंडियन रेलवे का, अगर long distance यात्रा करना हैं तो आपको टिकट 2-3 महीना पहले की कटाना पड़ेगा, तत्काल सेवा की तो बात ही ना करे तो बेहतर होगा 2 मिनट्स में पूरा टिकट ख़त्म, मैं जब भी कोशिश किया हमें तो निराशा के अलावा कुछ नहीं मिला आप कोशिश कर सकते हैं, ये थोड़ा सा जानकारी था भारतीय रेलवे के बारे में अगर बुरा लगा होगा तो कोई बात नहीं सच्चाई कड़वी ही होती है. खैर छोड़िये ये सब अब चलते हैं मुख्य मुद्दा पे.

रेलवे स्टेशन पर क्यों लिखा होता हैं समुन्द्र तल से ऊंचाई ?

अगर आप भारतीय रेल में सफर करते हैं तो रेलवे स्टेशन के बोर्ड पे स्टेशन के नाम के साथ साथ समुन्द्र तल से ऊंचाई (Mean Sea Level) के बारे लिखा हुआ कभी न कभी जरूर देंखेंगे होंगे. आपके मन में भी कभी कभी ये सवाल आता होगा की ये क्यों लिखा होता हैं? चलिए आज हम बताते हैं इसके पीछे का कारण और साथ साथ हम ये भी जानेंगे की ये यात्री के लिए लिखा होता हैं या रेलवे कर्मचारी के लिए.

क्या हैं समुन्द्र तल से ऊंचाई (Mean Sea Level, MSL) ?

Sea Level

आपको पता हैं की ये दुनिया गोल हैं, गोल होने के कारण इसके सतह पे थोड़ा थोड़ा कर्व आता हैं. इसके कारण दुनिया को सतह से मापने के लिए एक ऐसा बिंदु की जरुरत थी जो हमेसा एक सामान हो, इसके लिए वैज्ञानिक को समुद्र तल से अच्छा कोई दूसरा विकल्प नहीं मिला. समुद्र तल से ऊंचाई की गणना करना बेहद आसान हैं. समुद्र तल एक समान होने के कारण MSL की मदद से ऊंचाई की गणना करना आसान होता हैं. किसी जगह और बुल्डिंग की ऊंचाई निकलने में इसका खूब प्रयोग होता हैं. समुद्र तल को केंद्र बिंदु मानकर किसी जगह की समुन्द्र तल से ऊंचाई निकाला जाता हैं. अब आपको थोड़ा बहुत तो Idea मिल ही गया होगा क्या हैं समुन्द्र तल से ऊंचाई (Mean Sea Level, MSL).

भारतीय रेलवे स्टेशन पर समुन्द्र तल से ऊंचाई लिखने का क्या मतलब बनता हैं?

New delhi railway station sea level
New delhi

क्या ये रेलवे यात्री के लिए होता हैं? नहीं जी ऐसा बिलकुल नहीं हैं ये यात्री के लिए नहीं होता हैं. समुन्द्र तल से ऊंचाई की जानकारी रेलवे कर्मचारी रेल गार्ड और ड्राइवर के लिए होता हैं. इसके लिखे होने के कारण को हम अच्छे से आपको समझाने की कोशिश करते है. अगर ट्रेन 500 मीटर समुन्द्र तल ऊंचाई से 1000 मीटर समुद्र तल ऊंचाई की ओर जा रही है तो ड्राइवर आसानी से ये अनुमान लगा सकता हैं की ऊंचाई चढ़ने में ट्रेन इंजन को कितना टार्क की जरुरत पड़ेगी, आसान भाषा में जाने तो इंजन को कितना पावर की जरुरत पड़ेगी. समुन्द्र तल की ऊंचाई देखकर ड्राइवर आसानी से ये अनुमान लगा सकता हैं की ट्रेन को कितना ऊर्जा और कितना घर्सन की जरुरत पड़ेगी. इसके विपरीत अगर हम बात करे तो अगर ट्रेन 1000 मीटर समुद्र तल की ऊंचाई से 500 मीटर समुद्र तल की ऊंचाई की ओर जा रहा है तो ड्राइवर को ये अनुमान लगाने में आसान होता हैं की ट्रेन को कितना गति देना है और कितना घर्सन देना हैं.

हमें उम्मीद है की आपको इस लेख को पढ़ने के बाद कुछ हद तह ये तो समझ आ ही गया होगा की समुद्र तल से ऊंचाई के बारे में हर एक रेलवे स्टेशन पे क्यों लिखा रहता हैं. अगर आपके मन में कुछ सवाल हैं तो निचे comment box में अपना सवाल पूछ सकते हैं. हम कोशिश करेंगे आपके सवालों का जवाब देने के लिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 1 =