Name of politician who belong to Kurmi cast | कुर्मी जाती के नेता का नाम

0
kurmi neta mane

Kurmi Politician / कुर्मी नेता

Nitish Kumar / नितीश कुमार (Bihar):

kurmi neta mane

नितीश कुमार हिंदुस्तान के राजनीती में अपना बेदाग छवि और सुशासन बाबू के नाम से जाने जाते हैं. उन्हें ईमानदार छवि का नेता माना जाता है. नितीश कुमार बिहार के राजनीती में अपना एक अलग ही पहचान बनाने में कामयाब हुए हैं. नितीश कुमार एक बुद्धिमान और समय के साथ बदलने वाले इंसान हैं. बिहार के ज्यादातरतर लोगो को उनपे भरोसा हैं. उनके रेल मंत्री रहते हुए 1999 में एक रेल दुर्घटना हुई थी जिसमे लगभग 200 लोगो की जाने गई थी. इस घटना की जिम्मेदारी लेते हुए उन्होंने रेलमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिए थे. रेल मंत्री रहते हुए उन्होंने कई नई योजनाए लाये थे.

बिहार के बख्तियापुर में १ मार्च १९५१ को नितीश कुमार का जन्म हुआ था. उनके पिता का नाम कविराजराम लखन सिंह था और माता का नाम परमेश्वरि देवी था. उनके पिता गांधीवादी विचार के थे और अनुग्रह नारायण सिन्हा से उनकी काफी अच्छी दोस्ती थी.अनुग्रहनयायन सिन्हा को आधुनिक बिहार के संस्थापक के रूप में जाना जाता है. नितीश जी ने पटना के बिहार इंजीनियरिंग कॉलेज (NIT) से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग से स्नातक की पढाई पूरी की हैं. नितीश कुमार ने जयप्रकाश आंदोलन (1974 से (1977) में जमकर हिस्सा लिए थे. 1985 में वो बिहार विद्यानसभा के लिए चुने गए थे. उस समय नितीश कुमार सतेंद्रनारयण सिन्हा के बहुत करीबी थे. 1987 में नितीश कुमार फिर लोकदल के अध्यक्ष चुने गए. फिर उनको 1989 में जनतादल पार्टी के महासचिव के तौर पर चुना गया था. उसी साल नितीश कुमार को लोकसभा के लिए चुना गया था.
प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह सिंह के कार्य काल (1989) में नितीश जी को केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री के रूप में चुना गया था. दोबारा उन्हें 1991 में लोकसभा के लिया चुना गया था और संसद में उन्हें जनतादल के उपनेता के रूपमे सम्मानित किया गया. उनका 1998 से 1999 तक केंद्रीय मंत्री के रूप में संक्षिप कार्य काल रहा. ३ मार्च २००० को नितीश जी को बिहार के मुख्यमंत्री के लिया चुना गया था. लेकिन बहुमत साबित नहीं होने के कारण उनकी सरकार केवल 7 दिनों में ही गिर गई थी. फिर 2001 से 2004 तक वो केंद्र में कृषि मंत्री रहे. नितीश कुमार ने अटल जी के सरकार में रेल मंत्री के रूप में भी काम किये थे. 2004 में हुए लोकसभा के चुनाव में नितीश जी ने बिहार के नालंदा और बाढ़ दो सीटों से चुनाव लड़े थे जिसमे उनको बाढ़ के सीट से हार मिली थी. फिर 2005 में हुए बिहार विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का नेतृत्व करते हुए बिहार में इतिहास रच दिए. लालू यादव के पार्टी को बुरी तरह हराकर वो बिहार के मुख्यमंत्री बने. 2010 में फिर वो दोबारा बिहार के मुख्यमंत्री बने.

उसी वर्ष बाद में, वह कृषि मंत्री के रूप में केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल हुए। 2001 से 2004 तक, उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी मंत्रालय में रेल मंत्री के रूप में कार्य किया। 2004 में हुए लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार नालंदा और बरह से चुनाव लड़े थे। वह नालंदा से चुने गए, लेकिन बरह से हार गए। नवंबर 2005 में, उन्होंने बिहार विधानसभा चुनाव में जीत के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का नेतृत्व करते हुए इतिहास रचा और इस तरह लालू प्रसाद यादव के जनतंत्र दल के पंद्रह साल पुराने शासन को समाप्त कर दिया। 24 नवंबर को, उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। 2010 में, नीतीश कुमार ने चार-पाँचवीं बहुमत के साथ सत्ता में वापसी की और लगातार फिर बिहार के मुख्यमंत्री बने। फिर 2014 में लोकसभा के चुनाव में नरेंद्र मोदी के प्रधान मंत्री के उम्मीदवार चुने जाने से नाराज होकर उन्होंने भारतीय जनता पार्टी से अपनी बहुत पुरानी दोस्ती तोड़ लिए थे. 2015 के बिहार विधान सभा के चुनाव में वो लालू यादव के पार्टी राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस के साथ मिलकर बिहार में महागठबंधन बनाये. 2015 के चुनाव में महागठबंधन की शानदार जित हुई. नितीश कुमार फिर से बिहार के मुख्य मंत्री बने. फिर जुलाई 2017 में नितीश जी ने महागठबंधन से अपना नाता तोड़ लिया और फिर BJP के साथ मिलकर बिहार में सरकार बना ली.

राजनीति में नितीश जी का योगदान:-नितीश कुमार के रेल मंत्री रहते हुए रेलवे में online booking की शुरुआत की गई. नितीश कुमार ने बहुत सारे बुकिंग काउंटर खोलने का काम किआ, तत्काल टिकट बुकिंग योजना भी उन्ही के कार्यकाल में शुरुआत की गई. नितीश जी को रेलवे की सफलता के पीछे वास्तविक मस्तिष्क माना जाता हैं. उन्होंने रेलवे को लाभकारी बनाने में काफी मेहनत की.

बिहार के मुख्या मंत्री के रूप में उन्होंने बहुत सारि नीतियां लागु की. उनके मुख्यमंत्री बनते ही बिहार में 54000 अपराधिओं को तुरंत जेल में डाला गया और बिहार में शुशासन को कायम किया गया. उन्होंने बिहार के महिलाओ के लिए 50 % आरक्षण देने का काम किया. बहुत सी online पोर्टल की शुरुआत की गई जैसे Onnile प्रमाणपत्र (जाती, आवासीय, आय), Onlile Police complaint आदि. नितीश कुमार ने बहुत बड़ा राजनीती रिस्क लेते हुए उन्होंने बिहार में पुरे तरीके से शराब को बंद करने का काम किया. शराब बंदी के बाद कुछ लोग उनसे काफी नाराज भी हुए थे. नितीश कुमार जी ने बिहार में हरेक गावों में बिजली और सड़क पहुंचाने का काम किया और जिस गाओं में अभीतक पक्की सड़क और बिजली नहीं है वहाँ अभी काम जारी हैं.

पुरस्कार / Awards (nitish kumar award winning list)

NDTV (2010)- Indian of the Year
Forbes (2010)- India’s Person of the Year by
CNN-IBN (2010)- Indian of the Year Award
NDTV- (2009)- Indian of the Year
Economic Times- (2009)- Business Reformer of the Year
Rotary International- (2009)- Polio Eradication Championship अवार्ड
CNN-IBN (2008)- Indian of the Year
The Best Chief Minister by CNN-IBN and HT State of the Nation Poll 2007

Timeline of Nitish kumar

1951: बख्तियारपुर (बिहार) में में जन्म.
1974 -1977 – जयप्रकाश आंदोलन में भाग लेना.
1985 – विधानसभा के लिए चुने गए.
1987 – युवा लोक दल के अध्यक्ष बने.
1989 – बिहार में जनता दल पार्टी के महासचिव बने.
1989 – 9 वीं लोकसभा के लिए चुने गए.
1989 – प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के मंत्रिमंडल में केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री के लिए चुने गए.
1991 – राष्ट्रीय स्तर पर जनता दल के महासचिव बने.
1998 -1999 – रेलवे और भूतल परिवहन मंत्री के रूप में केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के रूप में सेवा की.
1999 – उत्तर पूर्वी भारत में गैसल ट्रेन एक्सीडेंट के बाद इस्तीफा दे दिया.
2000 – बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त, केवल 7 दिनों तक चली.
2001 – 2004 – अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए सरकार में रेल मंत्री बने.
2005 – लालू प्रसाद यादव की जनता दल के पंद्रह वर्षीय शासन को समाप्त करने वाले बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ।
2010 – लगातार तीसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली.
2015 – लगातार चौथी बार बिहार के मुख्यमंत्री के लिए शपथ लिए.

बेनी प्रसाद वर्मा

Beni prasad verma
Beni prasad vaema

इनका जन्म 11 फरवरी 1941 को बाराबंकी में हुआ था. बेनी प्रसाद गोंडा लोकसभा से सांसद रह चुके हैं. वो भारत सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं. 1998, 1999 और 2004 में कैसरगंज क्षेत्र से लोकसभा के लिए चुने गए. जुलाई 2011 में मनमोहन सरकार में उन्हें इस्पात मंत्री चुना गया था. बेनी प्रसाद वर्मा जी ने अपने गृह जिले बाराबंकी में बदोसराय के पास बारादरी और मोहनलाल वर्मा शैक्षिक संस्थान चरण सिंह महाविद्यालय की स्थापना की.

प्रेमलता कटियार

Premlata katiyar
Premlata katiyar

प्रेमलता कटियार उत्तरप्रदेश के कल्याण सरकार, रामप्रकाश गुप्ता और राजनाथ सिंह के सरकार में मंत्री बानी रहीं. वह भारतीय जनता पार्टी के उत्तरप्रदेश इकाई की उपाध्यक्ष भी बनी है.

राजेश वर्मा

Rajesh Verma
Rajesh verma

इनका जन्म 6 नवंबर 1960 को उत्तरप्रदेश के सीतापुर में हुआ था. राजेश वर्मा पेशे से पत्रकार थे और 1999 और 2004 में वो बहुजन समाज पार्टी से 13 वीं और 14 वीं लोकसभा के लिए चुने गए थे. 2014 में BJP के टिकट से सीतापुर से चुनाव जीते थे.

बाल कुमार पटेल

Bal kumar patel
Bal kumar patel

इनका जन्म 1 जनवरी 1964 को उत्तरप्रदेश के चित्रकूट में हुआ था.
बाल कुमार पटेल एक कुर्मी जाती के नेता और मिर्जापुर उत्तरप्रदेश से भारत के संसदीय क्षेत्र के सदस्य रह चुके हैं.

डॉ. सोने लाल पटेल

Dr. Sonelal patel
Dr. Sonelal patel

इनका जन्म 1950 में बागुलीहाई गाँव, कन्नौज में हुआ था.
डॉ. सोने लाल पटेल एक प्रसिद्ध कुर्मी नेता थे. वह उत्तर प्रदेश में कुर्मी जाति के एक जानेमाने राजनीतिक दल अपना दल के संस्थापक और राष्ट्रीय अध्यक्ष थे. उन्होंने कानपुर विश्वविद्यालय से भौतिकी में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की थी. उन्हें कांशी राम का करीबी माना जाता था और उन्होंने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की स्थापना में अहम योगदान दिया था. बाद में उन्होंने नवंबर 1995 में बसपा की वर्तमान प्रमुख मायावती के साथ मतभेदों के कारण अपना राजनीतिक संगठन अपना दल बना लिया.

कानपुर में 17 अक्टूबर 2009 को एक सड़क दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई। डॉ। सोनेलाल पटेल की मृत्यु के बाद उनकी पत्नी श्रीमती कृष्ण पटेल 18 अक्टूबर, 2009 को अपना दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने. और उनकी बेटी अनुप्रिया पटेल 26 अक्टूबर, 2009 को अपना दल की राष्ट्रीय महासचिव बनीं.

अनुप्रिया पटेल ने उत्तर प्रदेश विधानसभा में रोहनिया, वाराणसी सीट जीती.

पृथ्वीराज चव्हाण

Prithviraj Chavan
Prithviraj Chavan

इनका जन्म 17 मार्च, 1946 इंदौर, मध्य प्रदेश में हुआ था.
पृथ्वीराज चव्हाण महाराष्ट्र के मुख्य मंत्री भी रह चुके हैं और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के सदस्य हैं. वह पहले राज्य सभा (भारत की संसद के ऊपरी सदन) के सदस्य थे और विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में पीएमओ, कार्मिक, लोक शिकायत और संसद और पार्लियामेंट्री मामलों में कार्य करते थे.

ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × two =