बहु और बेटी में फर्क

0

बहु और बेटी में फर्क
बहु – माजी रक्क्षाबंधन आरहा है। क्या भाई को राखी बांधने , मायके से हो आंउ।
सास – हर साल जाना जरुरी है। एक बार नहीं जाएगी तो तेरे भाई को कुछ हो नहीं जाएगा।
बहु – बस एक दिन में ही लौट आऊंगी।
सास – राखी तो बहाना है। बस जब देखो मायके की रट लगाए रहती है।
बहु – चुपचाप अपने कमरे में चली जाती है।
कुछ देर बाद ननद का फोन आया
सास – हैलो कैसी हो बेटी।
ननद – मैं ठीक हूं मां।बस इस बार राखी पे घर नहीं आपाउंगी‌
सास – क्यू।
ननद – मेरी सासु मां थोरी बीमार है।
सास – अरे ये सब उसके ढकोसले है। और कुछ नहीं, वो तुझे यहां नहीं आने देने के बहाने है और कुछ नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − two =